Benefits of Kiwi Fruit in Hindi


kiwi fruit in hindi


Benefits of Kiwi fruit in hindi  देखा जाए तोह ये चीन का मूल निवासी फल है। इसे चीनी गोजबेरी के नाम से जाना जाता है। निर्यात करते वक़्त जामुन पर लगे उच्च कर से बचने के लिए इसका नाम कीवी फ्रूट कर दिया गया।

इसका नाम कीवी नाम के एक पक्षी के नाम से पड़ा। यह छोटा तथा भूरे रंग का होता है। कीवी फल भी उसी छोटा और भूरा होता है। पर यह एक पोषण तत्वों से भरा हुआ है, जब कि इसमें कैलरी बिल्कुल कम है।

Kiwi fruit भारत मे इतना नही जाना जाता था, नाही अधिकतरभारतीयों को इस फल के बारे में जानकारी थी। हालांकि जब से यह फल भारत मे आयात होने लगा तभी भी बहुत कम लोगो तक इसकी जानकारी थी।

कुछ साल पहले जब डेंगू की साथ बढ़ी, तब डॉक्टर द्वारा इस फल का सुजाव किया गया। तब से यह फल को लोग जानने लगे। यह फल में carotenoids और ओमेगा एसिड से भरा है। इसमें हमे विटामिन सी और विटामिन ए का अच्छा स्तोत्र मिलता है।

भारत मे कीवी फ्रूट महगा मिलता था। भारत में बढ़ती मांग के चलते कही देशो ने इस फल को भारत निर्यात करना चालू किया। जिसके वजहसे आज इसकी कीमत बाजारों में कम हो रही है।


Benefits of Kiwi Fruit in Hindi


सभी प्रकार के फल तथा सब्जियोमे अधिक मात्रा में vitamin होते है जो के ह्रदय रोग, मधुमेह और अन्य रोगोपर उपयकर है. विविध विशेषको द्वारा किये गए अध्ययन में पता चला है के, कीवी फल से मोटापा तथा मानव आयु बढ़ने के गुण है। चलिए benefits of kiwi fruit in hindi समझते है।

त्वचा को स्वथ बनाये


त्वचा की प्रणाली अधिकांश vitamin C पर निर्भर होती है। vitamin C धुएं, प्रदूषण तथा सूरज की रोशनी से त्वचा पर होने वाले प्रभाव को रोकने में मदत करता है।  चहरे से झुर्रियों को नस्ट कर  चिकना बनता है, तथा त्वचा की बनावट में सुधर लता है।  यह विटामिन एक आवश्यक पोषण तत्व तथा एन्टीऑक्सिट है, जिसकी अच्छी मात्रा आपको कीवी में मिलेगी।

रोग प्रतिकार शक्ति में विकास


सभी फलो में पोषक तत्त्व भरी मात्रा में पाए जाते है।  kiwi fruit  में  भी कही तरह के पोषण तत्वों तथा vitamin C की भरी मात्रा होती है। जो की बहुत अच्छी मानी जाती है शरीर में रोगप्रतिकारक शक्ति को भढने के लिए।  शायद इसीलिए dengue  तथा flue के वक़्त doctor कीवी फ्रूट को खाने का सुझाव देते है।  यह फल ज्यादातर छोटे बचो तथा जिनकी उम्र ज्यादा हो चुकी है उनके लिए बहुत उपयुक्त है, क्यूंकि यही दो पढ़ाओ दौरान शरीर में रोग प्रतिकारक क्षमता काम होती है।

दिल के दोहरे पर उपयोगी


कीवी फल में पोटेशियम की मात्रा होती है, पोटेशियम ह्रदय के स्वाथ के लिए उपयुक्त होता है।  इसमें कई मात्रा में फाइबर की मात्रा पायी जाती है जो दिल के स्वाथ को सुधरने में मदत कराती है। एक अध्ययन में पाया गया के, ह्रदय रोग वाला अगर कोई व्यक्ति सोडियम कमी करने के साथ अगर पोटेशियम के सेवन में बढ़ोतरी करता है  तोह ह्रदय रोग के जोखिम पर नियत्रण पाया जा सकता है।

कोलेस्ट्रॉल का बढ़ाना दिल की बीमारी के लिए कितना खतरनाक है आप जानते ही है।  यह फल बुरे कॉलेस्रॉल को काम करता है जिससे नए कॉलेस्ट्रॉलको बढ़ने में मदत होती है।  शरीर में बढ़ने वाली चरबी को कम करने में मदत करता है, जिससे होने वाले कही खतरे काम होते है.

DNA के क्षति को रोकता है


ऑक्सीडेंट्स तनाव बढ़ने से हमारे DNA पर बुरा असर करते है।  ईससे स्वाथ सबंधी समस्या बढ़  है।  इस फल में एंटी ओक्सिएट होते है, जिसके नियमित सेवन से ऑक्सीडेटिव में बढ़ने वाले तनाव में नियंत्रण पाया जा सकता है।  लगातार होने वाले DNA के क्षती के वजहसे कैंसर जैसी बीमारी होने की सम्भावना होती है।  पर इस फल के नियमित सेवन से उसपर भी मात की जा सकती है।

गर्भवस्ता में उपयोगी



गर्भावस्ता में महिलाओ को ज्यादा पोषण तत्वो की जरुरत पड़ती है। गर्भावस्ता के दौरान बालक की सही विकास के लिए फोलिक एसिड की ज्यादा मात्रा में जरुरत होती है।  जिससे बच्चे के शारीरक तथा मानसिक विकास  सहायता होती है।  यह समय महिलाओ के लिए बहुत कठिन होता है, इस समय के लिए कीवी फल एक वरदान की तरह है।  इसमें मौजूद फोलेट बच्चे तथा महिला का स्वाथ मजबूत करमे में मदत करता है।  साथ ही गर्भावस्ता के बाद आने वाले द्दग इससे काम हो जाते है।

Previous Post
Next Post
Related Posts