Pigeon Pea | Meaning, Cultivation in Hindi


Pigeon pea in hindi

Pigeon pea का हिंदी मतलब अरहर होता है। भारत के कुछ हिसों में इसे तुर भी कहा जाता है। भारतीयों के लिए यह सामान्य से अनाज है, जो हर भारतीय रसोई में पाया जाता है। भारत मे इसे सामान्य रूप से चावल या रोटी के साथ खाया जाता है। इसका इस्तेमाल ज़्यादातर दाल के रूप में होता है।

आप ने शायद कही पढ़ा होगा या फिर अपने कोई खाना बनाने वाली वीडियो में सुना होगा। तोह यह बहुत ही जाना-माना ओर हमारे रसोई में पाया जाने वाला खाद्य है। जिसकी डाल हैम भारतीय सबसे ज्यादा पसंद करते है।

अगर आप pigeon pea का इंग्रेजी के हिसाब से मतलब निकले तो कबूतर मटर होता है। पर यह हम भारतीय में अरहर के नाम से ज्यादा जाना जाता है। इसका मूल भारत मे इस्तेमाल किया जाता था। पर आज इसकी सब्जी कम डाल ज्यादा बनाई जाती है।

Cultivation of Pigeon Pea in Hindi । अरहर की खेती

Pigeon pea की खेती इसके दानो के लिए की जाती है। जैसे कि चना, हरा मटर आदि। भारतीय उपमहाद्वीपो पर अरहर की खेती लगभग 3500 हजार साल पहले से की जा रही है। इसकी खेती बारिश के पानी पर आधारित होती है। हालांकि pigeon pea cultivation मुख्य पसल के रूप में खेती नही की जाती। इसे हमेशा दूसरे पसलो के साथ उगाया जाता है, जैसे चावल, मका, बाजारा आदि जैसे पिको के बाजू में इसको लगाया जाता है।

Pigeon pea की खेती उष्णकटिबंधीय और अर्ध उष्णकटिबंधीय जगह पर की जाती है। भारत मे यह महाराष्ट्र, कर्नाटक, उड़ीसा तथा केरल के कुछ विभाग में किया जाता है। हालांकि भारत मे इसका उत्पादन सबसे ज्यादा होता है, उसके बाद अफ्रीका और फिर अमेरिका में इसका उत्पादन किया जाता है। विश्व मे कुल 5 मिलियन टन तक इसका उत्पादन किया जाता है। जिसमे भारत का हिस्सा 4.9 मिलियन टन का है।

Pigeon pea की खेती को आज बहुत महत्वपूर्ण माना जा रहा है, क्योंकि आज यह बहुत ज्यादा आमदनी देने वाला उत्पादन है। जिसकी मांग दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है और साथ ही इसकी कीमत भी बढ़ रही है। तुर की खेती नए और पुराने दोंनों पद्धति से की जाती है। जिसमे काम कितकनाशक और बहुत ही कम खाद की जरूरत पड़ती है। हालांकि इसका एक बार लगाकर साल भर इससे पसल निकली जा सकती है वो भी आनेवाले चार पांच सालों तक इससे उत्पादन निकल जा सकता है।

भारत मे pigeon pea hindi में अरहर दाल मराठी में तुर दाल, तेलगु में कंधी पप्पू, केरलामें थुवारापरप्पा, तमिल में थुवराम परप्पू, कन्नड़ में तोगरी कहा जाता है। ज्यादातर यह दालो के रूप में पसंद किया जाता है। दक्षिण भारत मे इससे सांबर बना कर खाया जाता है। ज्यादातर शाकाहारी लोको के लिए इसमे प्रोटीन का एक महत्वपूर्ण स्त्रोत मन जाता है।

Ref :- Agropedia

आखरी अनुमान

भारत का यह एक मुख्य अनाज है, जिसकी खेती ज्यादातर उसके बीजो के लिए की जाती है। हमने pigeon pea in hindi में समझने की आपको पूरी कोशिश की है। उम्मीद है आपको यह अच्छे से समझ आया होगा। अगर आपको पसंद आया हो तोह अपने दोस्तों तक जरूर पहुचाये।
Latest
Next Post
Related Posts